अजहर फिल्म वॉलपेपर

अजहर सेलिब्रिटीज

Emraan Hashmi , Prachi Desai , Nargis Fakhri , Lara Dutta , Gautam Gulati , Manjot Singh, Kunaal Roy Kapur, Rajesh Sharma, Hemant Choudhary


इमरान हाशमी अजहर फिल्म में अजहरुद्दीन को हीरो बनाने में फ्लॉप हुए


अजहर फिल्म शोर्ट रिव्यू :


स्टारकास्ट : इमरान हाशमी नरगिस फाखरी प्राची देसाई, हुमा कुरैशी,निम्रत कौर,लारा दत्ता,गौतम गुलाटी और कुणाल रॉय कपूर



फिल्म में क्या अच्छा है : निर्माताओं ने शुरुआत में बड़ी चेतावनी देते हुए दावा किया है कि फिल्म बायोपिक नहीं है इंटरटेनमेंट पैकेज का ध्यान रख सिनेमाई स्वतंत्रताओं की कहानी पर लिया गया है। क्रिकेट के लीजेंड का खेल को शर्मशार करने वाली इस बायोपिक फिल्म में काफी चंचल प्रयास कर दर्शकों को बांधने की कोशिश की गयी है इसलिए फिल्म में सबसे अच्छी बात इमरान हाशमी और डायरेक्टर: टोनी डी सूजा का प्रयास है।

क्या बुरा है : 2 घंटा 11 मिनट की इस फिल्म में रनिंग टाइमिंग काफी धीमी है। फिल्म के डायलॉग बकवास होने के साथ-साथ कलाकारों द्वारा एक धीमा प्रदर्शन दिया गया है।


सबसे बुरी बात : फिल्म में सबसे बुरी बात वह लगती है जब कभी खत्म ना होने वाले अदालत दृश्यों को बार-बार सामने लाया जाता है।


फिल्म क्यों ना देखें : अजहर फिल्म में अजहरुद्दीन की महिमा एक दलित व्यक्ति के रूप में होती है। क्रिकेट या अजहर के प्रशंसको को फिल्म की बुरी कहानी के कारण एक बड़ी निराशा होती है। आप चाहें तो इस फिल्म को मिस कर अच्छी फिल्मों का इंतिजार कर सकते है।

फिल्म क्यों देखें : अगर आप इमरान हाशमी के फैन है तो निश्चित ही उनकी एक्टिंग आपको इस फिल्म में काफी पसंद आएँगी। फिल्म में कई दृश्यों में उन्होंने हु-ब-हू अजहर का स्टाइल बेहतरीन ढंग से कॉपी किया है।


अजहर फिल्म की पूरी समीक्षा :



अजहर फिल्म की पूरी कहानी : हैदराबादी परिवार में जन्मे मोहम्मद अजहरुद्दीन को उसके नानाजान (कुलभूषण खरबंदा) द्वारा यकीन दिलाया जाता है कि एक दिन वह महान क्रिकेटर बनकर इंडिया टीम की लिए 100 टेस्ट मैचों को खेलेगा।



जल्द ही अजहर युवा होता है और एक शानदार बल्लेबाज बन कर अपनी प्रतिभा के दम पर अधिक रन बनाने के साथ-साथ युवा कप्तान भी बन जाते है। अजहर के क्रिकेट जीवन को पटरी पर आने के बाद परिवार उनकी शादी का फैसला करता है। अजहर के लिए शादी की व्यवस्था की जाती है जिसमें उनकी शादी नौरीन (प्राची देसाई) से होती है।



नौरीन से शादी के बाद उनके क्रिकेट का करियर बढ़ता जाता है। प्रसिद्धि और धन की चकाचौंध उनके दिमाग के साथ खेलना शुरू कर देते है। लंदन के एक दौरे में उनकी मुलाक़ात बॉलीवुड एक्ट्रेस संगीता बिजलानी (नरगिस फाखरी) से होती है जिसके बाद उनकी वैवाहिक स्थिति खतरे में आ जाती है। एक दूसरे के प्यार में घिरे अजहर और संगीता जल्द ही शादी कर लेते है जिसकी दुनिया के सामने घोषणा अजहर पुरस्कार उनको समर्पित करने से करते है।

संगीत से शादी के बाद फिल्म में अजहर के गिरावट का दौर शुरू हो जाता है। अजहर एम के शर्मा (राजेश शर्मा) नाम के एक सट्टेबाज से मिलते है और मैच फिक्सिंग के दलदल में फंस जाते है। इसके आलावा फिल्म में आजीवन प्रतिबंध के खिलाफ अजहर की 8 साल की लड़ाई को दिखाया गया है।


अजहर फिल्म की स्क्रिप्ट रिव्यू : रजत अरोड़ा की लिखी अजहर फिल्म की स्क्रिप्ट को बड़ी आसानी से कमजोर कहा जा सकता है। अजहर के जीवन चरित्र को चित्रित करने में लेखक कामयाब नही हुए है। लेखकों के हाथ में एक बड़ा विषय था लेकिन कमर्शियल करने के चक्कर में वह अजहर के दृष्टिकोण तक ही सिमित रह गयी।



स्क्रिप्ट में लिखे डायलॉग बेहद बकवास है। इसके अतिरिक्त अजहर के जीवन से उन टुकड़ों को ऐसी स्थिति के साथ बुना गया है जिससे उनके प्रति सहानुभूति पैदा की जा सके अदालत वाले सीन में लारा दत्ता का किरदार और सवांद भी काफी खराब लिखे गए है।



डायरेक्टर ने अपने हाथ में विस्फोटक सामग्री के साथ फिल्म को भुनाने के प्रयास किया है जिससे वह यथार्थवादी बनने में विफल नजर आते है। भारत जैसे देश में जहां क्रिकेट को धर्म और क्रिकेटर को भगवान का दर्जा दिया गया है वहां ऐसे शख्स का होना एक शर्म की बात है फिल्म को इस नजरिए से रखा जाता तो शायद फिल्म अधिक मनोरंजक हो सकती थी।


एक्टिंग रिव्यू : अजहर का किरदार इमरान हाशमी ने निभाया है। फिल्म देखने के बाद निश्चित रूप से कहा जा सकता है कि इमरान ने अभिनेता अजहर बनने के लिए उन पर काफी समय खर्च किया है। अपने ठेठ संवाद अदायगी में बेशक अजहर की तुलना में इमरान नजर आते है लेकिन अजहर के स्टाइल की नकल इतने बेहतरीन ढंग से की गयी है की उनका अभिनय कही कमजोर नही पड़ता है।



नौरीन बनी प्राची देसाई ऐसी पत्नी के रोल में है जिसके साथ गलत होता है। बेशक स्क्रीन पर उनका चेहरा अधिक बार सामने नही आता है लेकिन उनके संकोची रूप ने फिल्म में उनके रोल को सफल बना दिया है।



संगीता बनी नरगिस फाखरी को इस फिल्म की सबसे कमजोर कड़ी कहा जा सकता है। उनका लुक बेशक कही-कही संगीता से मिलता है लेकिन उनकी पलकें पाउटिंग सिसकना काफी नाटकीय लगता है।



अजहर मूवी में लारा दत्ता काफी ओवरस्मार्ट लगी है। फिल्म में उनके लुक के साथ बहुत गलत किया गया है। कुणाल रॉय कपूर रेड्डी अजहर के वकील के रूप में एक अच्छा काम करते है। फिल्म में उनका प्रयास बेशक अधिक लगता है लेकिन वह अपने रोल में ठीक लगे है।



टीवी कलाकार गौतम गुलाटी, वरुण बडोला मनजोत सिंह को फिल्म में प्रभाव पैदा करने के लिया रखा गया था लेकिन वह सफल नही हुआ है।


अजहर फिल्म का डायरेक्शन रिव्यू : शुरू में ही टोनी डिसूजा ने फिल्म को लेकर दावा कीया है कि फिल्म एक बायोपिक नहीं है लेकिन है कि निश्चित रूप से वह इस फिल्म को एक मसालेदार फिल्म बनाने में भी कामयाब नही हुए है। बायोपिक फिल्मों में आवश्यकता से अधिक मसाला डालने से उसका आनंद नही रह जाता है यही हाल इस बायोपिक फिल्म का हुआ है।


अजहर एक सपोर्ट फिल्म थी लेकिन इस फिल्म से सपोर्ट दिखाने के लिए प्रयोग की गयी तकनीक वीएफएक्स से लेकर ग्राफिक्स सभी प्रभाव छोड़ने में फ्लॉप हो गए है। अजहरुद्दीन के प्यार की भावनाओं के साथ फिल्म के ट्विस्ट और टर्न को बेहतरीन ढंग से दिखाया गया है जो डायरेक्शन की सबसे अच्छी बात रही है।


डायरेक्टर ने इंडिया-पाकिस्तान के मैच और जुबली कप में खेले गए शॉट्स में कैमरे के कोण ठीक नही रहा है। इसके अतिरिक्त फिल्म में क्रिकेट मैच ऐसा दिखाया गया है जिसमें भीड़ शोर और जयकार का नामों निशान नही है जो सबसे हैरत वाली बात है।



अदालत के कमरे के दृश्य और फिल्म को समाप्त करने में डायरेक्टर साहब ने होच पोच कर दिया है जिससे फिल्म का दूसरा भाग अधिक बोरिंग लगता है। अजहर फिल्म बनाने में डायरेक्टर इतने कन्फ्यूज हो गए की ना वह अजहरुद्दीन के व्यक्तित्व की भावना की दर्शा सके और ना ही अजहर का पूरा क्रिकेट करियर।


अजहर फिल्म का म्यूजिक और संगीत : अजहर फिल्म के गीत संगीत कही भी फिल्म को बांधे रखने का प्रयास नही करता है। फिल्म में त्रिदेव फिल्म से लिया गया पुराना गीत ओये ओये गज़र ने किया है। इशारा ही जुबान पद चढ़ने वाला गीत है इसके बाद फिल्म का तू ही जाने ना जिसे सोनू निगम और प्रकृति ककर ने गाया है उसे सुना जा सकता है। अजहर फिल्म का थीम गीत जीतने के लिए केके की आवाज में आपको सिनेमाघर में ही अच्छा लगता है। अजहर फिल्म में कोई ऐसा गीत नही है जिसे अधिक समय तक लोग याद रखेंगे।






अजहर फिल्म वीडियो

        

Comment Box

    User Opinion
    Your Name :
    E-mail :
    Comment :

Latest Movies Wallpapers