ढिशूम फिल्म वॉलपेपर

ढिशूम

ढिशूम सेलिब्रिटीज

John Abraham , Jacqueline Fernandez , Varun Dhawan , Akshay Kumar


कंटेंट कमजोर लेकिन दमदार एक्शन से भरी फिल्म है ढिशूम


स्टार कास्ट : वरुण धवन, जॉन अब्राहम, जैकलीन फर्नांडीज, राहुल देव, साकिब सलीम, अक्षय खन्ना


डायरेक्टर : रोहित धवन


ढिशूम फिल्म में क्या अच्छा है : इस फिल्म में जॉन अब्राहम और वरुण धवन फैंसी टॉय बॉयज की भूमिका में उतरे है। स्पीड बोट और ड्रोन आधारित एक्शन दृश्यों की इस फिल्म के एक्शन बड़े लाजवाब बने है।


फिल्म में बुरा क्या है : रोहित धवन की फिल्म स्टाइल में तो उच्च है लेकिन कंटेंट की बात करें तो वह बेहद लो है। लादेन ठप्पे वाली इस फिल्म की स्क्रिप्ट लाचार नजर आती है।


फिल्म क्यों देखें : अजीब तत्वों से भरी ढिशूम उम्मीद के मुताबिक फिल्म है। इस सप्ताह के लिए इस फिल्म चयन बेहतरीन रहेगा।

फिल्म क्यों ना देखें : अगर आप फिल्म देखते समय अपने दिमाग का इस्तेमाल अधिक करते है तो यह फिल्म आपके लिए बिलकुल नही है। इस फिल्म का आनंद लेने के लिए आपको आपना दिमाग एक तरफ रख कर सिर्फ दृश्यों को एन्जॉय करना होगा।




ढिशूम फिल्म की पूरी कहानी
: इस फिल्म की कहानी में भारतीय क्रिकेटर विराट कोहली के नाम को बदल कर विराज |(साकिब सलीम) पर रची गयी है और जैसा की ट्रेलर में दिखाया गया है की फिल्म की कहानी क्रिकेटर विराज के अपहरण के आसपास घूमती है।



दो दिनों के अंदर भारत और पाकिस्तान के बीच फाइनल मैच खेला जाना है लकिन इस बीच विराज का अपहरण कर लिया जाता है जिसकी वजह से भारतीय क्रिकेट मैनेजमेंट में अफरा तफरी मच जाती है। इंडियन स्पेशल टास्क फ़ोर्स की तरफ से एजेंट कबीर शेरगिल (जॉन अब्राहम) को इस केस को सुलझाने के लिए भेजा जाता है। केस सुलझाने में उनके साथ नासमझ, नौसिखिया अरब पुलिस वाला जुनैद अंसारी (वरुण धवन) उनके सह-एजेंट के रूप में इस केस को खत्म करने का प्रयास शुरू कर देता है।



सुराग के तलाश के लिए वे इशिका (जैकलिन फर्नांडीज) को चुनते है। इशिका विराज के अपहरणकर्ताओं के ठिकाने तक पहुँचने में अहम कड़ी निभाती है। कबीर और जुनैद को अपने मिशन को सफल करने के लिए वाघा (अक्षय खन्ना) से निपटना पड़ता है जो असली और खतरनाक अपराधी है। कबीर और जुनैद विराज को किन मुसीबतों से बचा कर लाते है यह सब देखने के लिए ही आपको सिनेमाघरों में पहुंचना है।



स्क्रिप्ट रिव्यू : रोहित धवन की ढिशूम एक प्रकार से काफी व्यस्त और यात्रा पर निकली फिल्म है। स्क्रिप्ट में दो पुलिस वाले रखे गए है जिसमें कबीर का किरदार फौलादी और सोच वाला है वही जुनैद नासमझ आदमी है जो फिल्म में कॉमेडी से मजा लाने के लिए रखा गया है। स्क्रिप्ट की इस जोड़ी में बनी केमिस्ट्री धूम फिल्म की जोड़ी अभिषेक बच्चन और उदय चोपड़ा की याद दिलाते है। फिल्म की स्क्रिप्ट उम्मीद के मुताबिक है। जैकलिन और जॉन के रोमांस के अतिरिक्त दिल जीतने वाला भाग फिल्म के एक्शन सीन है जो कबीलेतारीफ़ तरीके से शूट किये गये है।



स्क्रिप्ट में वरुण के डायलॉग चार लाइनर जिंगल की तरह हैं जो शुरू में तो अच्छे लगते है और एक जगह पर आकर व्यंग्य का रूप ले लेते है। उदाहरण के लिए फिल्म में एक डायलॉग है कामता हु दिरहम में लेकिन खर्चता हु रूपये में .. खाता हु इनकी लेकिन सुनता हु सिर्फ मोदी जी की।


स्क्रिप्ट में अक्षय कुमार की कैमियो एक दृश्य है जो उनके लिहाज से बेहद कमजोर है इसके अलावा राहुल देव की स्क्रिप्ट में एंट्री अनावश्यक और बकवास लगती है।

स्क्रिप्ट का सारा फोकस जॉन और वरुण के चरित्र पर ही रखा गया हैं। जॉन के चरित्र की बात करें तो वह कानून तोड़ने वाला शख्स है इसके अलावा लेखक ने इस चरित्र में मर्दाना भाव जाहिर करने के लिए सिगरेट पीने और चेहरे पर धुआं फेंकने के भाव को डाला गया है जिसको लेकर कम से कम आधुनिक सिनेमा को दूर रहना चाहिए।

स्टार परफॉरमेंस रिव्यू : इस फिल्म में जॉन अब्राहम का किरदार दमदार है। जबरजस्त बॉडी,धूम्रपान करता हुआ कठोर चेहरा अधिकांश दृश्यों में जॉन इसी लुक में नजर आयें है लेकिन दर्शक जॉन को इस रोल में एक अरसे से देखते आ रहे है जो अब दर्शकों को देखने में काफी उबाऊ लगता है। जॉन अब्राहम को वास्तव में कुछ अलग करने की जरूरत है। अभिनेता जॉन ने इस फिल्म में कुछ भी अलग नही किया है।



दुर्भाग्य से फिल्म में दूसरे एक्टर के रूप में काम कर रहे वरुण धवन के साथ भी इस फिल्म में यही हुआ है। मैं तेरा हीरो, हम्प्टी शर्मा की दुल्हनियां के बाद, जुनैद के रूप में उनका चरित्र इन फिल्मों से काफी मिलता जुलता है। वरुण बॉलीवुड के चॉकलेटी बॉय टाइप वाले हीरो है और अपनी कॉमिक टाइमिंग से वह लोगो के दिल में उतर जाते है। फिल्म में एक्शन अच्छे है और वह वरुण पर काफी अच्छे लगते है।

इशिका के रूप में जैकलिन फर्नांडीज के पास करने के लिए कुछ खास नही था लेकिन अपने जीब संवादों और सौ तरह के गीत में उनकी सेक्सी चाल और बोल्ड अंदाज ने सबका दिल जीत लिया है। जैकलिन को फिल्म में जितना भी काम दिया गया था उन्होंने अपने काम को अच्छे से किया है।



फिल्म में अक्षय खन्ना को बेशक स्क्रीन पर सीमित समय मिला हो लेकिन उन्होने खलनायक के रोल को बड़े ही बेहतरीन ढंग से निभाया है। साकिब सलीम जिन्होंने विराज का रोल किया है वह भी खिलाडी के रूप में अच्छे लगे है।



नरगिस फाखरी फिल्म में दो दृश्यों में नजर आती है। नरगिस जैसे ही बिकनी पहन कर एंट्री करती है सिनेमाघरों में मौजूद दर्शक सीटियां मारने के लिए मजबूर हो जाते है। फिल्म में परिणीति चोपड़ा का आइटम नंबर काफी ग्लैमर होने के साथ-साथ फिल्म को हॉट अंत देता है। अक्षय कुमार का कैमियो दर्शकों को काफी हैरान करता है।




डायरेक्शन एंड म्यूजिक रिव्यू
: रोहित धवन की ढिशूम परफेक्ट कमर्शियल ड्रामा फिल्म है। इस फिल्म में दो हॉट मेल कलाकार एक सेक्सी नायिका,म्यूजिक हर अनिवार्य चीज है।


रोहित द्वारा अबू धाबी में लिए गए शूट काफी प्रभावशाली है। रेतीले इलाके ,हथियारों की खुले तौर पर बेचे जाने वाले दृश्य के अतिरिक्त बाजार के बीच गोली चलाने वाले सीन की सेटिंग काफी बेहतरीन ढंग से की गयी है जो देखने में काफी अच्छे लगते है।



बेशक सोचने पर आपको जॉन के हवाई जहाज़ से निकलते हुए सिगरेट जलाने का सीन बेवकूफ भरा लग सकता है लेकिन देखने में यह उतना बुरा नही लगता है जितने सोचने पर लगता है। एक्शन दृश्यों की बात करें तो डायरेक्टर रोहित की इस पर पूरी पकड़ रही है।


वरुण और जॉन के हेलीकाप्टरों से लटकने के सीन हो या मॉल में पीछा करने का हो हर सीन को बहुत ही कबिलेतारिफ ढंग से फिल्माया गया है।


ढिशूम फिल्म के संगीत की बात करें तो यह औसत दर्जे का है। सौ तरह के और जानेमन फिल्म के यही गीत आपका मनोरंजन कर सकेंगे। बैकग्राउंड म्यूजिक की बात करें तो वह भी आम एक्शन म्यूजिक की तरह ही है।

ढिशूम फिल्म वीडियो

Comment Box

    User Opinion
    Your Name :
    E-mail :
    Comment :