पद्मावती फिल्म वॉलपेपर

पद्मावती सेलिब्रिटीज

Deepika Padukone , Ranveer Singh , Shahid Kapoor


पद्मावत मूवी शोर्ट रिव्यू :


स्टार कास्ट : दीपिका पादुकोण,शाहिद कपूर,रणवीर सिंह,अदिति राव हैदरी,रज़ा मुराद,जिम सर्भ और अनुप्रिय गोएंका


डायरेक्टर : संजय लीला भंसाली




पद्मावत मूवी में क्या अच्छा है : यह मूवी पूरी तरह से रणवीर सिंह की मूवी है। इस फिल्म को देखकर आपको अहसास हो जाएगा कि रणवीर सिंह अंधेरे में एक चमकदार कलाकार की तरह उभरे है। दिल्ली का एक लड़का खिलजी चैंपियन के रूप में छाप छोड़ने में पूरी तरह से कामयाब रहे है। मूवी में सभी कलाकारों की एक्टिंग और कलाईमैक्स काफी अच्छा है।


फिल्म में क्या बुरा है : मूवी की सबसे बुरी बात यह है कि रणवीर को फिल्म के टाइटल में शामिल नही किया गया है। मूवी की लम्बाई और ढीली पटकथा भी दर्शकों के रंग में भंग डालने का काम करती है।


फिल्म क्यों देखे : रणवीर सिंह की जबरजस्त एक्टिंग,कमाल का सेट डिजाइन और सिनेमेटोग्राफी के अतिरिक्त खिलजी और राजपूतों के आन बाण शान और संघर्ष को देखने के लिए यह फिल्म जरुर देखे।

 
फिल्म क्यों ना देखे : अगर थियेटर में फिल्म देखना आपके लिए क्या सुरक्षित तो आप इस फिल्म को देख सकते है। 


पद्मावत मूवी की पूरी कहानी : पद्मावत फिल्म की कहानी तब शुरू होती जब जलालुद्दीन खिलजी (रज़ा मुराद) दिल्ली की सल्तनत को अपना गुलाम बनाने की योजना बना रहा होता है जलालुद्दीन के भतीजे अलाउद्दीन खिलजी (रणवीर सिंह) के उपर हर नायाब चीज हासिल करने की एक सनक सवार है और अपने इसी पागलपन में सुंदर मोहिनी पद्मावती (दीपिका पादुकोण) और रावल रतन सिंह (शाहिद कपूर) की प्रेम कहानी के बीच खलल डालता है।


अलाउद्दीन अपने चाचा की बेटी महरूनिसा (अदिति राव हैदरी) का हाथ मांगता है और शादी के दिन चाचा की हत्या करके राजा बन जाता है। एक नजर में प्यार और शादी करने वाले रावल रतन सिंह और पद्मावती जब मेवाड़ में दाखिल होते है तो रतन सिंह राज पुरोहित राघव चेतन को देश से निकलना पड़ता है और वह इस अपमान का बदला लेने के लिए एक रानीतिज्ञ चाल चलते हुए अलाउद्दीन खिलजी के पास पहुँच जाता है।


अलाउद्दीन खिलजी के सामने राघव चेतन पद्मावती के रूप का गुणगान कुछ इस तरह से करता है कि वह रानी की सुंदरता की तरफ खींचता चला जाता है और उसे पाने की जिद्द कर बैठता है। यहाँ से स्टोरी इन तीन लोगों के जीवन के चारों ओर घूमना शुरू कर देती है। राजा रतन सिंह और अलाउद्दीन खिलजी के बीच युद्ध में किसकी जीत होती है और पद्मावती की एक झलक भी अलाउद्दीन खिलजी को मिलती है या नही ,यह सिनेमाघर में देखना ही उचित होगा।


स्क्रिप्ट रिव्यू : इस फिल्म की स्क्रिप्ट को संजय लीला भंसाली और प्रकाश कपाडिया द्वारा लिखा गया है। फिल्म काफी उथल पुथल के बाद सिनेमाघर तक पहुंची है और इसी से पता चलता है कि भंसाली के लिए यह सबसे कठिन काम था। इस फिल्म की स्क्रिप्ट लिखते हुए जहां डायरेक्टर भंसाली को राजपूतों की संवेदनशीलता का ख्याल रखना था वही खिलजी के पागलपन को भी पर्दे पर चित्रित करना था।


दोनों लेखकों ने शानदार ढंग से फिल्म का लेखन किया है और हर स्थितियों को बहुत ही सुंदर तरीके से संभाला है और भंसाली ट्रेडमार्क रॉयल्टी को भी बनाए रखा है। पहले भाग में सुंदरता बनाम जूनून का निर्माण दिखाया गया है तो दूसरे भाग में भंसाली ने युद्ध पर अपना ध्यान केंद्रित किया है।


स्क्रिप्ट को लेकर शायद ही किसी को कोई शिकायत हो। संपादन की कड़ी मेहनत साफ दिखाई पडती है। शाहिद के रोल को धोड़ा और उभारा जा सकता था लेकिन शायद आंदोलनकारी राजपूतों ने उनको पूर्ण स्वतंत्रा नही दी है।


स्टार परफॉरमेंस रिव्यू : अल्लाउद्दीन खिलजी के रूप में रणवीर सिंह की परफॉरमेंस को बॉलीवुड टॉप परफॉरमेंस लिस्ट में रखा जा सकता है। अनिश्चित समय पर उनकी वहशी मुस्कुराहट में जिस तरीके से वह खुद को पेश करते है वह उनकी एक्टिंग कला का सर्वश्रेस्ठ पल बन जाता है। रणवीर की एक्टिंग देखकर यह तो निश्चित है कि इस साल अवार्ड फंक्शन में उनके नाम की धूम रहने वाली है।


दीपिका पादुकोण इस फिल्म में उस भूमिका में है जिसके उपर फिल्म का नाम रखा गया है। दीपिका की ब्यूटी का बखान हुआ है और उन्होंने इस फिल्म में अपने रूप के साथ साथ ड्रेस और चाल ढाल से भी अपनी सुंदरता दिखाने में कामयाब रही है। उनकी असरदार लेकिन छोटी स्क्रीन उपस्थिति रही है।


शाहिद कपूर के रोल की बात करें तो इसमें कुछ गड़बडी जरुर कर दी है। उनकी भूमिका को उत्कृष्ट रूप दिया जा सकता था। गौर करने पर यकीन नही होता है कि उनकी भूमिका बस इतनी सी ही थी। रज़ा मुराद, अदिति राव हैदरी, जिम सरभ और अनुप्रिया गोयनका अपने अपने रोल को सही ढंग से निभाया है।

पद्मावती फिल्म वीडियो

     

Comment Box

    User Opinion
    Your Name :
    E-mail :
    Comment :

Latest Movies Wallpapers