सिटी लाइट्स गर्ल पत्रलेखा से जुडी कुछ रोचक बातें

Views:836


सिटी लाइट्स अभिनेत्री पत्रलेखा अपने प्राकृतिक अभिनय कौशल और शक्तिशाली स्क्रीन उपस्थिति से दर्शकों के दिलों को जीत कर उनको अपना दीवाना बना चुकी है। विक्रम भट्ट की अगली फिल्म 'लव गेम्स' में वह ग्रे शेड रोल में नजर आने वाली है। बी-टाउन में डेब्यू करते ही अभिनेत्री अपनी क्षमता से पहले पर्दे पर अभिनेत्री जो कमाल किया है। उसकी बहुमुखी प्रतिभा ने दर्शको के साथ-साथ आलोचकों ने भी जमकर तारीफ की है। अपने प्रदर्शन से साथी अभिनेत्रियों के मन को विचलित करने वाली पत्रलेखा के बारें में कुछ रोचक तथ्य बताने जा रहे है जिन पर आप नजर डाल सकते है।



पत्रलेखा नाम : क्वीन फिल्म में नजर आने वाली ब्यूटीफुल अभिनेत्री पत्रलेखा को अपना नाम अपनी ग्रैंडमदर से मिला है और वह एक एक कवयित्री थी। मुकेश और महेश भट्ट ने डेब्यू फिल्म में उनका नाम लंबा होने की बावजूद भी बनाए रखा था।


शास्त्रीय नर्तकी : युवा अभिनेत्री पत्रलेखा पारंपरिक नृत्य शैली में प्रशिक्षण प्राप्त किया हुआ है। भरतनाट्यम नृत्य शैली को उन्होंने बचपन से सीखा है। पत्रलेखा बॉलीवुड में एक प्रशिक्षित भारतीय शास्त्रीय नर्तकी है।


खेल में ऑलराउंडर : पत्रलेखा स्विमिंग घुड़सवारी, बास्केट बॉल जैसे सभी किस्म के खेलों में उन्नत प्रदर्शन करती है और इसके लिए वह अपने असम वैली पब्लिक स्कूल को धन्यवाद देती है। जिसने सभी प्रकार खेल में उनको उत्कृष्ट बनाने में काफी मदद की है।



एक्टिंग कला : दिवा पत्रलेखा बैरी जॉन के संस्थान से अभिनय कला को सीखा है। अकादमी से अभिनय के रूप में अच्छी तरह से सुसज्जित पत्रलेखा अपनी एक्टिंग कला कर प्रदर्शन अपनी फिल्मों में बखूबी करती है। अपनी पहली फिल्म सिटी लाइट्स के लिए निर्देशक हंसल मेहता ने राजस्थान भेजा था जहाँ पर उन्होंने महिलाओं की भाषा और इशारों को सीख लिया और फिल्म में अभिनेत्री ने उसी पद्धति का उपयोग कर खूब वाहोंवाही बटोरी है।


डॉग लवर : पत्रलेखा कुत्तों के बेहद शौकीन है। उनके घर शिलांग में पत्रलेखा के पास 8 पालतू कुत्ते है। युवा अभिनेत्री कई वर्षों विनम्रता के साथ उनकी देखभाल कर रही है। पत्रलेखा उन डॉगस को अपने परिवार के रूप में ही गिनती है।


सिनेमा से प्यार : अभिनेत्री पत्रलेखा को फ़िल्में देखना काफी पसंद है। विश्व सिनेमा हो या फिर क्षेत्रीय फिल्म,वह सभी प्रकार की फिल्मों को देखना पसंद करती है। प्रत्येक दिन एक फिल्म देखना उनकी रूटीन में शामिल है और इसमें कोई आश्चर्य की बात नही है कि अपने फ़िल्मी जुनून से ही प्रेरणा लेकर खुद को अधिक बेहतर और कामयाब बनाने के प्रयास में लगी हुई है।